बदला नहीं हूँ मैं मेरी भी कुछ कहानी है... बुरा बन गया हूँ अपनों की मेहरबानी है...!! आज इतना अकेला महसूस किया खुद को.... जैसे लोग दफना  के चले गए हो.....।।

जिंदगी ने भी हमारे साथ,  कई खेल खेले हैं। सुख में तो पूरी महफिल थी,  पर दुःख में अकेले हैं।।

कुछ कर गुजरने की चाह में , कहाँ-कहाँ से  गुजरे, अकेले ही नजर आये हम  जहाँ-जहाँ से  गुजरे..!!

सच कहा था किसी ने,  तन्हाई में जीना सीख लो. मोहब्बत जितनी भी सच्ची हो,  साथ छोड़ ही जाती है..!!

फायदा सबसे गिरी हुई चीज़ है, लोग उठाते ही रहते हैं..!!